शिव मंत्र | Shiv Mantra In Hindi | 17 Best Shiv Mantra List

यदि आप सर्व शक्तिशाली शिव मंत्र ढूंढ रहे है तो हमने यहाँ पर कुछ शिव मंत्र श्लोक दिए है जिस को आप पढ़ सकते है,

नीचे कुछ शिव मंत्र लिस्ट उपलब्ध है जिसको आप देख सकते है तो आये पढ़े है कुछ गुप्त शिव मंत्र पर उस से पहले जानते है की शिव कौन है। 

भगवान शिव या महादेव हिंदू धर्म के सबसे लोकप्रिय और पूजे जाने वाले देवताओं में से एक हैं और ब्रह्मा और विष्णु के साथ त्रिमूर्ति के तीन देवताओं में से एक हैं।

ऐसे कई नाम हैं जिन्हें शैव लोग भगवान शिव की पूजा और स्तुति करते समय उपयोग करना पसंद करते हैं, जैसे शंभू (सौम्य), शंकर (लाभकारी), महेश (महान भगवान), और महादेव (महान भगवान)। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए उनकी कई प्रकार से पूजा की जाती है।

जो लोग शुद्ध आत्मा के साथ शिव मंत्रों का जाप करते हैं वे जीवन में कोई भी लड़ाई लड़ सकते हैं और इससे एक बेहतर और मजबूत इंसान बन सकते हैं। 

ये मंत्र व्यक्ति के अंदर या उसके आस-पास मौजूद किसी भी नकारात्मक ऊर्जा के शरीर और आत्मा को शुद्ध करने में मदद करते हैं और उनके जीवन को सकारात्मक ऊर्जा से भर देते हैं।

सर्व शक्तिशाली शिव मंत्र | Shiv Mantra In Hindi


पंचाक्षरी शिव मंत्र | Panchakshari Shiva Mantra

ॐ नमः शिवाय ||

Om Namah Shivaya

अर्थ – मैं शिव को प्रणाम करता हूँ।


महामृत्युंजय मंत्र | Mahamrityunjaya mantra

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥

Om Tryambakam Yajamahe Sugandhim Pushti Vardhanam
Urvarukamiva Bandhanan Mrityor Mukshiya Maamritat

अर्थ – ओम, हम तीन आंखों वाले की पूजा करते हैं, जो सुगंधित है, पोषण बढ़ाता है। इन अनेक बंधनों (अपनी लताओं से बंधी हुई) से ककड़ी की तरह, क्या मुझे मृत्यु (नाशवान चीजों से लगाव) से मुक्त किया जा सकता है ताकि मैं अमरता की धारणा (हर जगह व्याप्त अमर सार) से अलग न हो जाऊं।


शिव रूद्र मंत्र | Shiva Rudra Mantra

ॐ नमो भगवते रूद्राय नमः।

Om Namo Bhagwate Rudraay Namah 

अर्थ – मैं रुद्राक्ष के सर्वशक्तिमान स्वामी को नमन करता हूं और प्रार्थना करता हूं।


शिव गायत्री मंत्र | Shiva Gayatri Mantra

ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्रः प्रचोदयात ।

Om Tatpurushaya Vidmahe Mahadevaya Deemahi Tanno Rudrah Prachodayat

अर्थ – ओम, मुझे उस महान व्यक्ति का ध्यान करने दो, हे महानतम भगवान, मुझे उच्च बुद्धि दो, और भगवान रुद्र मेरे मन को प्रबुद्ध करो।


शिव ध्यान मंत्र | Shiva Dhyan Mantra

करचरणकृतं वाक् कायजं कर्मजं वा श्रवणनयनजं वा मानसंवापराधं ।
विहितं विहितं वा सर्व मेतत् क्षमस्व जय जय करुणाब्धे श्री महादेव शम्भो ॥

Karacharana Kritam Vaa Kaya Jam Karmajam Vaa
Shravannayanjam Vaa Maansam Vaa Paradham
Vihitam Vihitam Vaa Sarv Metat Kshamasva
Jay Jay Karunaabdhe Shri Mahadev Shambho

अर्थ – शरीर, मन और आत्मा को सभी तनाव, अस्वीकृति, विफलता, अवसाद और अन्य नकारात्मक शक्तियों से मुक्त करने के लिए सर्वशक्तिमान ईश्वर की स्तुति करें।


Photo by at infinity on Unsplash

शिव पुष्पांजलि मंत्र

ॐ यज्ञेन यज्ञमयजंत देवास्तानि धर्माणि प्रथमान्यासन्, ते हं नाकं महिमान: सचंत यत्र पूर्वे साध्या: संति देवा:
ॐ राजाधिराजाय प्रसह्ये साहिने |नमो वयं वैश्रवणाय कुर्महे, स मे कामान्कामकामाय मह्यम् |
कामेश्वरो वैश्रवणो ददातु, कुबेराय वैश्रवणाय | महाराजाय नम:
ॐ स्वस्ति साम्राज्यं भौज्यं स्वाराज्यं वैराज्यं, पारमेष्ठ्यं राज्यं माहाराज्यमाधिपत्यमयं समंतपर्यायी
सार्वायुष आंतादापरार्धात्पृथिव्यै समुद्रपर्यंता या एकराळिति, तदप्येष श्लोकोऽभिगीतो मरुत: परिवेष्टारो मरुत्तस्यावसन्गृहे
आविक्षितस्य कामप्रेर्विश्वेदेवा: सभासद इति।
ॐ विश्व दकचक्षुरुत विश्वतो मुखो विश्वतोबाहुरुत, विश्वतस्पात संबाहू ध्यानधव धिसम्भत त्रैत्याव भूमी जनयंदेव एकः।
ॐ तत्पुरुषाय विदमहे, महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्।’
ॐ नाना सुगंध पुष्पांनी यथापादो भवानीच, पुष्पांजलीर्मयादत्तो रुहाण परमेश्वर
ॐ भूर्भुव: स्व: भगवते श्री सांबसदाशिवाय नमः।
।। मंत्र पुष्पांजली समर्पयामि।।


शिव मंत्र लिस्ट | Ekadasa Rudra Mantra

कुल मिलाकर 11 एकादश मंत्र हैं, जो भगवान शिव के 11 रूपों को समर्पित हैं। वे हैं:

Kapali– ॐ हम्हं सत्रस्तम्भनाय हम हम ॐ फट

Om HumHum Satrustambhanaya Hum Hum Om Phat

Pingala– ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं सर्व मंगलाय पिंगालय ॐ नमः

Om Shrim Hrim Shrim Sarva Mangalaya Pingalaya Om Namah

Bhima– ॐ ऐं ऐं मनो वंछिता सिद्धायै ऐं ॐ

Om Aim Aim Mano Vanchita Siddhaya Aim Aim Om

Virupaksha – ॐ रुद्राय रोगनशाय अगाच च राम ॐ नमः

Om Rudraya Roganashaya Agacha Cha Ram Om Namah

Vilohita – ॐ श्रीं ह्रीं सं ह्रीं श्रीं शंकरशनाय ॐ

Om Shrim Hrim Sam Sam Hrim Shrim Shankarshanaya Om

Shastha – ॐ ह्रीं ह्रीं सफाल्यायै सिद्धायै ॐ नमः

Om Hrim Hrim Safalyayai Siddhaye Om Namah

Ajapada – ॐ श्रीं बाम सौं बलवर्धनाय बालेश्वराय रुद्राय फूत ॐ

Om Shrim Bam Sough Balavardhanaya Baleshwaraya Rudraya Phut Om

Ahirbudhnya – ॐ ह्रं ह्रीं ह्रीं हम समष्ट ग्रह दोषा विनशय ॐ

Om Hram Hrim Hum Samastha Graha Dosha Vinashaya Om

Sambhu – ॐ ग्रं ह्लुआं श्रौं ग्लौं गाम ॐ नमः

Om Gam Hlum Shroum Glaum Gam Om Namah

Chanda – ॐ च्हं चण्डीश्वराय तेजस्यै च्युं ॐ फुत

Om Chum Chandishwaraya Tejasyaya Chum Om Phut

Bhava – ॐ भवोद भव संभाव्यै इष्ट दर्शना ॐ सॅम ॐ नमः

Om Bhavod Bhava Sambhavaya Ishta Darshana Om Sam Om Namaha

Photo by Vishal Nirmalkar on Unsplash

शिव मंत्र के लाभ


1 जो लोग अपना आत्मविश्वास बढ़ाना चाहते हैं और अपने जीवन में कुछ बनाना चाहते हैं उनके लिए शिव मंत्र बहुत फायदेमंद हैं। इस मंत्र के नियमित जाप से आंतरिक क्षमता और शक्ति बढ़ती है।

2 शिव मंत्रों का जाप उन लोगों में शक्ति और साहस लाता है जो कमजोर और शक्तिहीन महसूस कर रहे हैं, और उन्हें किसी समस्या से बाहर निकलने के तरीकों के बारे में जागरूक बनाता है।

3 शिव मंत्र का जाप करने से हर मनोकामना पूरी होती है, क्योंकि भगवान शिव हिंदू धर्म के सबसे दयालु देवता माने जाते हैं और उन्हें प्रसन्न करना बहुत आसान है।

4 इन मंत्रों के जाप से आसपास की सारी नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है और अंदर-बाहर सब कुछ शांत हो जाता है। यह आत्मा को शांत करता है और आंतरिक चेतना को खोलता है।

5 अगर कोई अपने आस-पास असुरक्षित महसूस कर रहा है और सुरक्षा चाहता है तो इन मंत्रों का जाप करने से उसे सुरक्षा का एहसास होगा। व्यक्ति सकारात्मक ऊर्जा से घिरा रहेगा।

6 प्रत्येक एकादश मंत्र एक विशेष माह के लिए विशिष्ट है। इसलिए इस मंत्र का जाप बताए गए महीने के अनुसार करना सबसे अधिक लाभकारी होता है, क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति को सबसे अधिक लाभ मिलता है।

शिव मंत्र का जाप कैसे करें 


  • अधिकांश मंत्रों की तरह शिव मंत्र जप भी सुबह-सुबह स्नान करने और साफ कपड़े पहनने के बाद करना चाहिए।
  • शिव मंत्रों का जाप दिन के किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय शिव मंत्रों का जाप करना सबसे अच्छा होता है।
  • लेकिन अगर कोई जप का सही समय भूल भी जाए, तो ऐसा माना जाता है कि शिव मंत्रों का जप दिन या प्रहर (वैदिक ज्योतिष में समय की एक इकाई, लगभग तीन घंटे लंबी) के किसी भी समय किया जा सकता है।
  • सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित है और इस दिन पूजा करना और शिव मंत्रों का जाप करना बहुत लाभकारी होता है क्योंकि सोमवार के दिन भगवान शिव आसानी से प्रभावित हो जाते हैं।
  • सर्वोत्तम परिणामों के लिए शिव मंत्रों को भगवान शिव की पूजा और प्रार्थना करने के बाद शुरू करना चाहिए।
  • एक समय में 108 बार शिव मंत्रों का जाप करना सबसे अच्छा तरीका माना जाता है क्योंकि यह सर्वोत्तम परिणाम देता है। शिव मंत्रों का जाप ऊंचे स्वर में या मन में ही करना चाहिए।

भूलकर भी शिवलिंग पर न चढ़ाएं ये चीजें 


कुछ ऐसी चीजें हैं जो शिवलिंग पर नहीं चढ़ाई जातीं:

  • केवड़ा और केतकी के फूल: शिवलिंग पर केवड़ा और केतकी के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए। इन्हें शिवलिंग पर चढ़ाने की कोई परंपरा नहीं है।
  • लाल रंग के फूल: धार्मिक शास्त्रों में शिवलिंग पर लाल रंग के फूल चढ़ाना उचित नहीं माना गया है।
  • तुलसी दल: शिवलिंग पर तुलसी दल का प्रयोग नहीं किया जाता है। पूजा में इसका कोई उपयोग नहीं है और भगवान शिव की पूजा में भी इसे उचित नहीं माना जाता है।
  • हल्दी: भगवान शिव की पूजा में हल्दी का प्रयोग नहीं किया जाता है. शिवलिंग पर हल्दी चढ़ाने की कोई प्रथा नहीं है और इसे पूजा-पाठ में भी शामिल नहीं किया जाता है।

शिवलिंग पर चढ़ाने के लिए जल, दूध, गंगाजल, बिल्व पत्र, धातु कलश, फूल, धूप, दीप, बेल पत्र, पंचामृत, अक्षत, नैवेद्य, चंदन, कपूर आदि उचित सामग्री का उपयोग किया जाता है। ये चीजें भगवान शिव की पूजा के लिए उपयुक्त मानी जाती हैं और उनकी कृपा पाने में सहायक होती हैं।


FAQ

1. शिव मंत्र क्या हैं?

शिव मंत्र भगवान शिव की स्तुति और आराधना के लिए प्रयुक्त ध्वनि कम्पन हैं। इन मंत्रों का जाप करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है और मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

2. शिव मंत्रों के क्या प्रकार हैं?

शिव मंत्रों के अनेक प्रकार हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख हैं:

  • महामृत्युंजय मंत्र: यह मृत्यु पर विजय प्राप्त करने और आयुष्य वृद्धि के लिए प्रसिद्ध मंत्र है।
  • ॐ नमः शिवाय: यह सबसे सरल और शक्तिशाली शिव मंत्र है, जिसका जाप सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए किया जाता है।
  • शिव पंचाक्षर मंत्र: “ॐ नमः शिव:” यह पांच अक्षरों वाला मंत्र शिव के पांच प्रमुख रूपों का प्रतिनिधित्व करता है।
  • शिव षडाक्षर मंत्र: “ॐ जय नमः शिवाय:” यह छह अक्षरों वाला मंत्र भगवान शिव की सर्वोच्च शक्ति का प्रतीक है।
  • गंगा लहरी मंत्र: यह मंत्र माता गंगा की स्तुति के लिए प्रसिद्ध है और मनुष्य को पापों से मुक्ति दिलाता है।

3. शिव मंत्रों का जाप कैसे करें?

शिव मंत्रों का जाप करने के लिए कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक होता है, जैसे:

  • शुद्ध स्थान: मंत्रों का जाप स्वच्छ और शांत स्थान पर बैठकर करना चाहिए।
  • स्नान: जाप से पहले स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करना चाहिए।
  • दीप प्रज्वलित करना: भगवान शिव की मूर्ति या चित्र के सामने दीप प्रज्वलित करना चाहिए।
  • ध्यान: मंत्र जाप करते समय मन को एकाग्र रखना और भगवान शिव पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।
  • मंत्र का उच्चारण: मंत्रों का उच्चारण स्पष्ट और शुद्ध रूप से करना चाहिए।
  • माला का प्रयोग: मंत्र जाप के लिए माला का प्रयोग करना शुभ माना जाता है।
  • नियमित अभ्यास: प्रतिदिन नियमित रूप से मंत्र जाप करना चाहिए।

4. शिव मंत्रों के कुछ उदाहरण क्या हैं?

कुछ प्रसिद्ध शिव मंत्रों में शामिल हैं:

  • ॐ जय गंगेश्वराय नमः
  • ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टि-वर्धनं नावः भव:
  • ॐ नमः शिवाय
  • महामृत्युंजय मंत्र: “ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टि-वर्धनं नावः भवः”
  • शिव पंचाक्षर मंत्र: “ॐ नमः शिव:”

5. क्या कोई भी शिव मंत्र का जाप कर सकता है?

जी हाँ। कोई भी व्यक्ति श्रद्धा और भक्ति के साथ शिव मंत्रों का जाप कर सकता है।

6. शिव मंत्रों का जाप करने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

शिव मंत्रों का जाप किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन सूर्योदय, सूर्यास्त और मध्यरात्रि का समय विशेष रूप से शुभ माना जाता है।

7. शिव मंत्र जाप करते समय क्या नहीं करना चाहिए?

कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जो शिव मंत्र जाप के प्रभाव को कम कर सकती हैं:

  • अहंकार: जाप के दौरान अहंकार का त्याग जरूरी है। विनम्र भाव से ही भगवान प्रसन्न होते हैं।
  • लालच: सिर्फ स्वार्थपूर्ति के लिए या किसी को नुकसान पहुंचाने के लिए मंत्र जाप नहीं करना चाहिए।
  • अशुद्ध उच्चारण: गलत तरीके से मंत्र बोलने से लाभ कम मिलता है।
  • अनियमित अभ्यास: कभी-कभार जाप करने से कम फायदा होता है। नियमित अभ्यास जरूरी है।
  • अविश्वास: मंत्र की शक्ति पर विश्वास होना चाहिए। तभी सकारात्मक परिणाम मिलते हैं।

8. क्या शिव मंत्र जपने से कोई विशेष लाभ होते हैं?

शिव मंत्रों का जाप करने से अनेक लाभ हो सकते हैं, जैसे:

  • आंतरिक शांति: शिव मंत्र मन को शांत करने और तनाव दूर करने में सहायक होते हैं।
  • आध्यात्मिक विकास: इन मंत्रों से आध्यात्मिक चेतना का विकास होता है और मोक्ष की प्राप्ति का मार्ग प्रशस्त होता है।
  • भौतिक कल्याण: शिव मंत्र स्वास्थ्य, धन-समृद्धि और सफलता प्राप्त करने में सहायक होते हैं।
  • भय और चिंता दूर करना: शिव मंत्र भक्तों को भय और चिंता से मुक्ति दिलाते हैं।
  • शत्रुओं पर विजय: कुछ शिव मंत्र शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने और बाधाओं को दूर करने में सहायक होते हैं।

9. जप के लिए सबसे अच्छी शिव माला कौन सी है?

शिव मंत्र जप के लिए आप रुद्राक्ष की माला का प्रयोग कर सकते हैं। रुद्राक्ष का शिव से सीधा संबंध माना जाता है और यह जप को और भी शुभ बनाता है। इसके अलावा, आप चंदन की माला या तुलसी की माला का भी उपयोग कर सकते हैं।

10. क्या मैं शिव मंत्र का अर्थ जाने बिना जप कर सकता/सकती हूँ?

जी हां। आप मंत्र का अर्थ जाने बिना भी जप कर सकते हैं, लेकिन मंत्र के अर्थ को समझने से आपका ध्यान और बढ़ेगा और जप का फल अधिक प्राप्त होगा।

11. शिव मंत्र का जाप करते समय ओम का उच्चारण कितना जरूरी है?

कुछ शिव मंत्रों में “ॐ” का प्रयोग होता है, जबकि कुछ में नहीं होता। “ॐ” ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है और इसका उच्चारण मंत्र की शक्ति को बढ़ाता है।

12. क्या शिव मंत्र का जाप करते समय रुद्राभhishek करना जरूरी है?

रुद्राभिषेक भगवान शिव का विशेष पूजन है, जिसमें उन्हें पंचामृत आदि से स्नान कराया जाता है। यह पूजन बहुत शुभ माना जाता है, लेकिन यह शिव मंत्र जप के लिए अनिवार्य नहीं है। आप सिर्फ जप करके भी भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

13. क्या शिव मंत्र का जाप करते समय कोई विशेष भोग लगाना चाहिए?

शिव को भांग, धतूरा और बेलपत्र प्रिय हैं। आप अपनी श्रद्धा अनुसार इनका भोग लगा सकते हैं। हालांकि, भगवान को प्रसन्न करने के लिए भोग जरूरी नहीं है।

14. क्या शिव मंत्र का जाप करते समय मौन रहना जरूरी है?

नहीं, शिव मंत्र का जाप करते समय मौन रहना अनिवार्य नहीं है। आप जप के साथ-साथ भगवान शिव का ध्यान भी कर सकते हैं।

15. क्या शिव मंत्र का जाप करते समय जप की संख्या निर्धारित है?

कुछ साधनाओं में मंत्र जप की एक निश्चित संख्या निर्धारित की जा सकती है, लेकिन आमतौर पर आप अपनी श्रद्धा और समय के अनुसार जप कर सकते हैं। जप की गुणवत्ता अधिक मायने रखती है।

16. क्या मैं शिव मंत्र का जाप करते समय मन ही मन जप कर सकता/सकती हूँ?

जी हां। आप मन ही मन मंत्र का जाप भी कर सकते हैं। वास्तव में, ध्यान के साथ किया गया मानसिक जप और भी प्रभावी होता है।

17. क्या शिव मंत्र जपने का कोई वैज्ञानिक आधार है?

माना जाता है कि मंत्र जप से विशेष ध्वनि तरंगें उत्पन्न होती हैं जो शरीर और मन को सकारात्मक रूप से प्रभावित करती हैं। साथ ही, जप के दौरान किया जाने वाला ध्यान मन को शांत करने और एकाग्रता बढ़ाने में सहायक होता है।

18. क्या मैं किसी भी गाने या भजन में शिव मंत्र सुनकर लाभ प्राप्त कर सकता/सकती हूँ?

जी हां। भक्तिभाव से गाए गए शिव स्तोत्र या भजन भी उतने ही प्रभावी होते हैं। श्रद्धा के साथ मंत्र सुनने से भी सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है।

19. क्या हर किसी को एक ही तरह का शिव मंत्र जपना चाहिए?

नहीं, हर किसी के लिए अलग-अलग तरह के शिव मंत्र उपयुक्त हो सकते हैं। आप अपनी इच्छा और समस्या के अनुसार मंत्र का चुनाव कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, शांति के लिए “ॐ नमः शिवाय” का जाप किया जा सकता है, वहीं रोग दूर करने के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जाप किया जा सकता है।

20. शिव मंत्र जप का फल तुरंत मिलते हैं क्या?

फल की प्राप्ति व्यक्ति के संकल्प, श्रद्धा और साधना की शुद्धता पर निर्भर करती है। जल्दी फल की इच्छा रखने से फायदे कम मिलते हैं। धैर्य और नियमित अभ्यास जरूरी है। निरंतर जप से सकारात्मक बदलाव धीरे-धीरे नजर आने लगते हैं।