पुरा महा मृत्युंजय मंत्र अर्थ के साथ | Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi

महा मृत्युंजय मंत्र योग परंपरा में सबसे शक्तिशाली और प्राचीन उपचार मंत्रों में से एक है।

यह एक लंबा और जटिल वाक्यांश है जिसके अर्थ की कई परतों को समझने और इसकी परिवर्तनकारी शक्तियों को उजागर करने के लिए प्रयास की आवश्यकता है। 

माना जाता है कि परम रक्षक और विजय के अग्रदूत शिव का यह संस्कृत श्लोक मृत्यु पर विजय पाने की शक्ति रखता है और इसका जाप करने वालों को आंतरिक शांति, शक्ति और समृद्धि प्रदान करता है।

ऋषियों ने महा मृत्युंजय मंत्र को वेदों के हृदय से कम नहीं माना है – ज्ञान और आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि से भरे प्राचीन ग्रंथ है ।

गहन चिंतन, आत्म-साक्षात्कार और ध्यान के लिए उपयोग किए जाने वाले अनगिनत मंत्रों में श्रद्धेय गायत्री मंत्र के साथ-साथ इसका अत्यधिक महत्व है।

Table of Contents

महामृत्युंजय मंत्र | Mahamrityunjaya Mantra Lyrics in Hindi


यह पवित्र वाक्यांश आमतौर पर चार पंक्तियों में विभाजित होता है, प्रत्येक पंक्ति में आठ शब्दांश होते हैं:

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगंधिम् पुष्टिवर्धनम्
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर् मुक्षीय मामृतात्


महा मृत्युंजय मंत्र क्या है?

महा मृत्युंजय एक शक्तिशाली और प्राचीन संस्कृत मंत्र है जिसका जप सुरक्षा, उपचार और मृत्यु के भय पर काबू पाने के लिए किया जाता है। “महा” शब्द का अर्थ है महान, “मृत्यु” का अर्थ है मृत्यु, और “जया” का अर्थ है विजय या विजय।

इसलिए, महा मृत्युंजय को “महान मृत्यु-विजय मंत्र” के रूप में जाना जाता है। इसे कभी-कभी एक शब्द के रूप में या अंत में “ए” के बिना लिखा जाता है, जैसे “महामृत्युंजय”।

यह मंत्र शिव की शक्ति और गुणों का आह्वान करता है, जिन्हें विनाश और परिवर्तन के स्वामी के रूप में जाना जाता है। शिव तीसरी आंख से जुड़े हैं, जो भौतिक क्षेत्र से परे आध्यात्मिक ज्ञान और ज्ञान की शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है।

वह जीवन और मृत्यु के चक्र का प्रतिनिधित्व करता है, और नकारात्मकता को नए विकास और अवसरों में बदलने की शक्ति का आह्वान करता है। उन्हें महान योगी के रूप में भी जाना जाता है और उन्हें अक्सर ध्यान में बैठे या ब्रह्मांडीय नृत्य की स्थिति में चित्रित किया जाता है।

महामृत्युंजय मंत्र को “त्र्यंबकम मंत्र” के रूप में भी जाना जाता है, जो शिव की तीन बुद्धिमान आँखों या “रुद्र मंत्र” की ओर इशारा करता है, जो शिव के उग्र और दुर्जेय स्वभाव का प्रतीक है।

शिव के लिए कठोर तपस्या करने के बाद जीवन को पुनर्जीवित करने में इसकी भूमिका के संदर्भ में, इस रहस्यमय मंत्र को कभी-कभी मृत-संजीवनी मंत्र भी कहा जाता है।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे मंत्र | Maha Mrityunjaya Mantra 108 Times Video


Maha Mrityunjaya mantra in Sanskrit

महामृत्युंजय का अर्थ | Mrityunjaya Mantra In Hindi


इस संस्कृत मंत्र का सामान्य अनुवाद है:

हम तीन आंखों वाले का ध्यान करते हैं, जो सभी के लिए सुगंधित और पौष्टिक है। जिस प्रकार एक पका हुआ फल पौधे के तने से सहजता से गिर जाता है, वह हमें अज्ञान, असत्य और मृत्यु से, अमरता से मुक्त कर सकता है।

शब्द-दर-शब्द अनुवाद है:

  • ओम – आदिम ध्वनि, पूर्ण वास्तविकता
  • त्रयंबकम – तीन आंखों वाला (शिव)
  • यजामहे – हम पूजा करते हैं, हम ध्यान में रमण करते हैं, आराधना करते हैं
  • सुगंधिम – सुगंधित, मधुर गंध, भक्ति की सुगंध
  • पुष्टिवर्धनम – पोषण और जीविका का दाता
  • उर्वारुकमिव – पके हुए खीरे या खरबूजे की तरह
  • बंधनान – अज्ञान और असत्य का बंधन या लगाव
  • मृत्योर – मृत्यु या नश्वरता का बंधन
  • मुक्शिया-आप हमें मुक्ति दिलायें
  • मामृतात् – अमरत्व से

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कैसे करें


  1. शुरू करने के लिए, एक शांत और शांतिपूर्ण जगह ढूंढें जहां आप बिना किसी ध्यान भटकाए आराम से बैठ सकें। शांत वातावरण बनाने के लिए आप मोमबत्ती या धूप जलाना चुन सकते हैं।
  2. अपनी आँखें बंद करें और खुद को केंद्रित करने के लिए कुछ गहरी साँसें लें और अपने मन को अपने पाठ के उद्देश्य पर केंद्रित करें।
  3. शांत और स्थिर आवाज के साथ मंत्र का जाप शुरू करें, जिससे ध्वनि कंपन आपके भीतर गूंजने लगे। अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करते हुए मंत्र को जोर से बोलें।
  4. आप दोहराव को गिनने और अपने मन को केंद्रित रखने में मदद करने के लिए माला (प्रार्थना माला) का उपयोग कर सकते हैं। रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना सर्वोत्तम होगा।
  5. मंत्र की उपचारात्मक और पुनर्जीवन देने वाली ऊर्जा और इससे आपके शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण में होने वाले लाभों पर ध्यान केंद्रित करें। अपनी आंतरिक जागरूकता को हृदय चक्र या भौंह केंद्र की ओर निर्देशित करें।
  6. जैसे ही आप इसे दोहराना जारी रखते हैं, अपनी सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपनी आवाज़ को फुसफुसाहट तक कम करने का प्रयास करें। अंततः इसे चुपचाप अपने दिमाग में जपने की दिशा में काम करें।
  7. मंत्र को तब तक दोहराते रहें जब तक कि आप 108 पुनरावृत्ति (एक माला 108 की होती है) तक न पहुँच जाएँ या जब तक आप चाहें।
  8. जब आप मंत्र पढ़ना समाप्त कर लें, तो अपने शरीर, मन और हृदय पर मंत्र की शक्ति के प्रभाव को महसूस करने के लिए कुछ गहरी साँसें लें।
Photo by at infinity on Unsplash

महा मृत्युंजय मंत्र के फायदे 


  • मृत्युंजय मंत्र का नियमित जाप आपके परिवार की रक्षा की कामना करता है। यह मंत्र उन्हें उनके अच्छे स्वास्थ्य और उनके परिवार के कल्याण का आश्वासन देता है। यह एक स्वस्थ मानसिकता और भावनात्मक क्षमता प्रदान करता है।
  • जो लोग इस मंत्र का जाप करते हैं उनकी आयु बढ़ती है और बीमारी और मृत्यु का भय कम होता है। इससे उनका जीवन सुख-समृद्धि से भर जाता है।
  • मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को संतुलित करने के अलावा, महामृत्युंजय मंत्र कलाकार के स्वास्थ्य को फिर से जीवंत और पोषित करता है और किसी भी बीमारी और बुरी आदतों को दूर करके तनाव को कम करता है।
  • हिंदू धर्म में भगवान शिव को सबसे दयालु देवता के रूप में जाना जाता है और उन्हें प्रसन्न करना बहुत आसान है। व्यक्ति को केवल उसके प्रति पूरी तरह से समर्पित होना चाहिए, और किसी भी अनुष्ठान या मंत्र को हृदय की पवित्रता के साथ करना चाहिए।
  • महामृत्युंजय मंत्र के नियमित जाप से उन्हें और उनके पूरे परिवार को भगवान शिव से सुरक्षा का आशीर्वाद मिलता है। उन्हें हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा और अचानक मौत से सुरक्षा मिलती है।

निष्कर्ष

महा मृत्युंजय मंत्र एक प्राचीन और शक्तिशाली मंत्र है जो सदियों से पूजनीय है। इस मंत्र को सच्ची श्रद्धा के साथ अपनी दिनचर्या में शामिल करके आप अपने शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण में गहरा बदलाव महसूस कर सकते हैं।

जैसे ही आप ॐ त्र्यम्बकं यजामहे मंत्र का जाप करते हैं, इसकी दिव्य ऊर्जा आपको आत्म-खोज और आंतरिक शांति की यात्रा में मार्गदर्शन करने देती है। जब आप इस मानव जीवन के परीक्षणों और कष्टों से गुज़रते हैं, तो इसके शाश्वत ज्ञान को अपनाएं, इसके गहन ज्ञान में सांत्वना पाएं। 

प्रत्येक पाठ के साथ, परम वास्तविकता के साथ गहरा संबंध महसूस करें और दिव्य ऊर्जाओं के साथ एक पवित्र बंधन का अनुभव करें। याद रखें, नियमित अभ्यास और एकाग्र मन ही इस मंत्र का पूरा लाभ प्राप्त करने की कुंजी है।


FAQ

1. महा मृत्युंजय मंत्र क्या है?

यह भगवान शिव का एक प्राचीन और शक्तिशाली मंत्र है, जिसे “मृत्यु को जीतने वाला मंत्र” भी कहा जाता है। यह ऋग्वेद में पाया जाता है और इसे मोक्ष प्राप्ति, दीर्घायु और समृद्धि के लिए जाना जाता है।

2. इसका क्या अर्थ है?

इस मंत्र का अर्थ है:
“हे त्र्यम्बकम (तीन नेत्रों वाले भगवान शिव), मुझे अमरता की औषधि प्रदान करें। हे पशुपति (पशुपालक), मुझे बंधनों से मुक्ति दें। हे देवाधिदेव (देवताओं के देव), मुझे मृत्यु से मुक्ति दें।”

3. इसका जाप कैसे करें?

महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करने के लिए, आप निम्नलिखित चरणों का पालन कर सकते हैं:
शांत और पवित्र स्थान पर बैठें।
भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति के सामने बैठें।
रुद्राक्ष की माला का उपयोग करें।
धीमी गति से और स्पष्ट रूप से मंत्र का जाप करें।
प्रत्येक मंत्र के बाद थोड़ा रुकें।
आप 108 बार, 3 बार या 1 बार मंत्र का जाप कर सकते हैं।

4. इसका जप करने के क्या लाभ हैं?

महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करने के कई लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं:
मोक्ष प्राप्ति
दीर्घायु
समृद्धि
रोगों से मुक्ति
भय और चिंता से मुक्ति
मन की शांति
आध्यात्मिक विकास

5. क्या कोई भी इस मंत्र का जाप कर सकता है?

हाँ, कोई भी इस मंत्र का जाप कर सकता है, चाहे उनकी जाति, धर्म या लिंग कुछ भी हो।

6. मंत्र का जाप करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

मंत्र का जाप शुद्ध मन और भक्तिभाव से करें।
मंत्र का जाप करते समय किसी भी प्रकार का व्यवधान न हो।
मांस, मदिरा और लहसुन का सेवन न करें।
ब्रह्मचर्य का पालन करें।

7. क्या मंत्र का जाप करने के लिए कोई निश्चित समय होता है?

महा मृत्युंजय मंत्र का जाप किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन सुबह जल्दी या शाम को सूर्यास्त के समय इसका जाप करना अधिक फलदायी माना जाता है।

8. क्या मंत्र का जाप करते समय माला का उपयोग करना आवश्यक है?

नहीं, मंत्र का जाप करते समय माला का उपयोग करना आवश्यक नहीं है। आप अपनी उंगलियों से भी मंत्र का जाप कर सकते हैं।

9. क्या मंत्र का जाप करते समय किसी विशेष मुद्रा में बैठना आवश्यक है?

नहीं, मंत्र का जाप करते समय किसी विशेष मुद्रा में बैठना आवश्यक नहीं है। आप अपनी सुविधानुसार बैठ सकते हैं।

10. क्या मंत्र का जाप करने के लिए किसी गुरु की आवश्यकता होती है?

नहीं, मंत्र का जाप करने के लिए किसी गुरु की आवश्यकता नहीं होती है। आप स्वयं भी मंत्र का जाप सीख सकते हैं।

11. यदि मैं मंत्र का जाप करते समय गलती कर दूं तो क्या होगा?

यदि आप मंत्र का जाप करते समय गलती करते हैं तो चिंता न करें। बस शांत रहें और मंत्र का जाप दोबारा शुरू करें।

12. क्या मंत्र का जाप करने से कोई नकारात्मक प्रभाव हो सकता है?

नहीं, मंत्र का जाप करने से कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं होता है। यह केवल सकारात्मक प्रभाव ही देता है।

13. क्या मैं मंत्र का जाप किसी और के लिए कर सकता हूं?

हाँ, आप मंत्र का जाप किसी और के लिए भी कर सकते हैं।

14. क्या मंत्र का जाप करते समय मैं अपनी इच्छाओं को भगवान शिव से कह सकता हूं?

हाँ, आप निश्चित रूप से मंत्र का जाप करते समय भगवान शिव से अपनी इच्छाओं को कह सकते हैं।
महा मृत्युंजय मंत्र भगवान शिव की शक्ति और दया का आह्वान करता है। यह माना जाता है कि मंत्र जाप करने से आपकी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं, चाहे वे स्वास्थ्य, धन, प्रेम या मोक्ष से संबंधित हों।
यहां कुछ बातें ध्यान में रखनी चाहिए:
ईमानदारी और भक्तिभाव से प्रार्थना करें। भगवान शिव को अपनी इच्छाओं के बारे में बताएं, लेकिन यह भी स्वीकार करें कि उनकी इच्छा सर्वोपरि है।
केवल सकारात्मक और स्वार्थरहित इच्छाएं मांगें। दूसरों को नुकसान पहुंचाने या गलत काम करने के लिए शक्ति न मांगें।
धैर्य रखें। मंत्र का जाप करते समय धैर्य रखें और परिणामों की जल्दी उम्मीद न करें।
अपने कर्मों पर ध्यान दें।अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत और लगन भी दिखाएं।
कृतज्ञता व्यक्त करें। जब आपकी मनोकामनाएं पूरी हों, तो भगवान शिव का आभार व्यक्त करना न भूलें।
यहाँ कुछ उदाहरण दिए गए हैं कि आप अपनी इच्छाओं को कैसे व्यक्त कर सकते हैं:
“हे भगवान शिव, मुझे मृत्यु से बचाएं और मुझे दीर्घायु प्रदान करें।”
“हे भगवान शिव, मुझे रोगों से मुक्ति दें और मुझे स्वस्थ रखें।”
“हे भगवान शिव, मुझे मेरे अध्ययन में सफलता दें।”
“हे भगवान शिव, मुझे एक खुशहाल और समृद्ध जीवन प्रदान करें।”
“हे भगवान शिव, मुझे मोक्ष प्राप्ति का मार्ग दिखाएं।”
याद रखें, महा मृत्युंजय मंत्र केवल एक शक्तिशाली उपकरण है। सच्चा आशीर्वाद आपकी भक्ति, कर्म और समर्पण पर निर्भर करता है।

महा मृत्युंजय मंत्र इतना लोकप्रिय क्यों है?

कई कारण हैं! यह एक छोटा और सीखने में आसान मंत्र है, फिर भी माना जाता है कि इसमें अपार शक्ति है। इसके अलावा, इसका अर्थ सार्वभौमिक है – हम सभी स्वस्थ जीवन और सकारात्मकता चाहते हैं।

क्या वैज्ञानिक रूप से मंत्र के फायदों को साबित किया गया है?

वैज्ञानिक अध्ययन अभी भी चल रहे हैं, लेकिन जप ध्यान का एक रूप है। ध्यान के मानसिक और शारीरिक लाभों को अच्छी तरह से प्रलेखित किया गया है, तनाव कम करना, रक्तचाप को कम करना और नींद में सुधार करना शामिल है।

मंत्र का जाप करने के अलावा भगवान शिव को प्रसन्न करने के अन्य तरीके कौन से हैं?

कई तरीके हैं! आप शिवलिंग पर जल चढ़ा सकते हैं, बेलपत्र चढ़ा सकते हैं, सोमवार का व्रत रख सकते हैं या शिवपुराण का पाठ कर सकते हैं।

मैं मंत्र का जाप करना सीखना चाहता हूं, लेकिन मेरा संस्कृत अच्छा नहीं है?

कोई बात नहीं! आप ध्वनि का जाप कर सकते हैं। शुद्ध उच्चारण महत्वपूर्ण है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण है आपकी भक्ति और श्रद्धा।

कुछ दिनों से मैं थोड़ा निराश महसूस कर रहा हूं। क्या महा मृत्युंजय मंत्र मेरी मदद कर सकता है?

यह निश्चित रूप से आपको शांत और केन्द्रित करने में मदद कर सकता है। निराशा के गहरे कारणों के लिए, किसी मित्र से बात करना या पेशेवर मदद लेना भी फायदेमंद हो सकता है।

मंत्र जाप करने के लिए कोई ऐप्स उपलब्ध हैं क्या?

हाँ, कई ऐप हैं जो आपको महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करने में मदद कर सकती हैं। हालाँकि, ये ऐप्स वैकल्पिक हैं। आप इसे बिना किसी ऐप के भी जप कर सकते हैं।