Tilak Lagane Ka Mantra | तिलक लगाने का मंत्र | ब्राह्मणों को तिलक लगाने का मंत्र

Tilak Lagane Ka Mantra : सनातन धर्म, जिसे हिंदू धर्म के नाम से जाना जाता है, मानव शरीर को भगवान का निवास मानता है। सनातन धर्म में तिलक को उत्सव, पूजा और ध्यान का अभिन्न अंग माना जाता है।

यह मंत्र धार्मिक शक्ति का प्रतीक है और समृद्धि और एकता को बढ़ावा देता है। 

इसीलिए हमने मानव शरीर को एक मंदिर के समान माना है, जिसका सबसे ऊंचा भाग माथा है, जिसे हम ‘शिखर’ कहते हैं।

तिलक का अर्थ है शिखर को सजाना, इसलिए यह हमारी धार्मिक और भावनात्मक आस्था का प्रतीक है।

नीचे जितने भी मंत्र दिए गए है, वे सब माथे पर तिलक लगाने का मंत्र है, तो आये पढ़ते है तिलक लगाने का मंत्र कौन – कौन सा है। 

तिलक लगाने का मंत्र | Tilak Lagane Ka Mantra


तिलक लगाते समय इस मंत्र का मानसिक जाप करें, यह अत्यंत फलदायी होता है। जिस उद्देश्य से तिलक धारण किया जाता है वह शीघ्र पूरा हो जाता है।

भगवान को तिलक लगाने का मंत्र | Bhagwan ko Tilak Lagane ka Mantra

केशवानन्त गोविंद बाराह सर्वोच्च।
पुण्यं यशस्यमायुष्यं तिलकं मे प्रसीदतु ॥

कान्ति लक्ष्मीं धृतिं सौख्यं सौभाग्यमतुलं बलम्।
ददातु चंदनं नित्यं सततं धारयाम्यहम् ॥


स्वयं को तिलक लगाने का मंत्र | Swayam Ko Tilak Lagane Ka Mantra

ॐ चंदनस्य महत्पुण्यं पवित्रं पापनाशनम्।
आपदां हरते नित्यं, लक्ष्मीस्तिष्ठति सर्वदा ॥


ब्राह्मणों को तिलक लगाने का मंत्र

ॐ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः। स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
स्वस्ति नास्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः। स्वस्ति नो बृहस्पतिरधातु ॥

नमो ब्रह्मण्य देवाय गोब्राह्मण हिताय च।
जगत् हिताय कृष्णाय गोविंदाय नमो नमः॥


कन्याओं को तिलक लगाने का मंत्र

ॐ अंबे अंबिके अंबालिके नामा नयति कश्चन।
सस्सत्यश्वकः सुभद्रिकां काम्पिल वासिनिम् ॥


माताओं को तिलक लगाने का मंत्र

ॐ सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते॥

ॐ देहि सौभाग्यं आरोग्यं देहि मे परमं सुखम्।
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषोङहि॥

ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते ॥


बच्चों को तिलक लगाने का मंत्र

ॐ यावत् गंगा कुरूक्षेत्रे यावत् तिष्ठति मेदनी।
यावत् रामकथा लोके तावत् जीवतु आयुः ॥


पुरुषों को तिलक लगाने का मंत्र | जजमान का तिलक लगाने का मंत्र

ॐ भद्रमस्तु शिवं चास्तु महालक्ष्मिः प्रसीदतु।
रक्षन्तु त्वां सदा देवाः सम्पदाः सन्तु सर्वदा ॥
सपत्ना दुर्गः पापा दुष्ट सत्वाद्युपद्रवाः।
तमाल पत्र मालोक्यः निष्प्रभावा भवन्तु ते ॥


स्त्रियों को तिलक लगाने का मंत्र

श्रीश्चते लक्ष्मीश्च पत्न्या व्हो रात्रे पाश्र्वे नक्षत्राणि रूपमश्विनौ व्यात्तम्।
इष्ण्निषां मम ईशां सर्व लोकमयीषां ॥


मेहमान को तिलक लगाने का मंत्र | Yajman Ko Tilak Lagane Ka Mantra

ॐ भद्रमस्तु शिवं चास्तु महालक्ष्मिः प्रसीदतु।
रक्षन्तु त्वां सदा देवाः सम्पदाः सन्तु सर्वदा ॥


पितरों को तिलक लगाने का मंत्र

ॐ पितृगणाय विद्महे जगत धारिणी धीमहि तन्नो पितृो प्रचोदयात्।


भाईदूज पर भाई को तिलक लगाने का मंत्र

गंगा पूजे यमुना को, यमी पूजे यमराज को।
सुभद्रा पूजे कृष्ण को, गंगा जमुना नीर बहे मेरे भाई आयु बढ़े ॥


Divineshlok.com

माथे पर तिलक लगाने के क्या प्रकार होते हैं?

हिंदू धर्म में कुछ ऐसी परंपराएं शामिल हैं जिनका बहुत महत्व है लेकिन समय के साथ इन्हें भी अपनाया जा रहा है। प्राचीन काल में राजा-महाराजा जब भी शुभ कार्य के लिए जाते थे तो स्मारकों पर तिलक लगाते थे।

जब भी कोई राजा या महाराजा युद्ध के लिए जाते थे तो अपने प्रिय को याद करते थे और विजय के लिए उनके स्मारकों पर तिलक लगाते थे।

दरअसल, हिंदू धर्म में शरीर के कुल 12 स्थानों जैसे गर्दन, हृदय, दोनों भुजाएं, नाभि, पीठ, दोनों बगल आदि पर तिलक लगाने का नियम है। मस्तिष्क पर तिलक लगाने के विशेष सिद्धांत और महत्व बताए गए हैं।

हालाँकि, अब इस विधि को वैज्ञानिक भी कहा जाता है। वॉक्स का मानना है कि माथे पर तिलक लगाने से शांति और ऊर्जा मिलती है। भारत में कई प्रकार के तिलक पैटर्न उपलब्ध हैं। चंदन, गोपीचंदन, सिन्दूर, रोली, मिश्रण आदि।

तिलक और इसके पीछे की व्याख्या. तिलक कई प्रकार के होते हैं. मृतिका, भस्म, चंदन, रोली, सिन्दूर, गोपी आदि। सनातन धर्म में शैव, शाक्त, वैष्णव और अन्य बौद्धों के अलग-अलग तिलक होते हैं।

चंदन का तिलक लगाने से पापों का नाश होता है। व्यक्तिगत संकटों से बचता है। उस पर लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है। इन्द्रियाँ नियंत्रित एवं सक्रिय रहती हैं।

वैष्णव- वैष्णव परंपरा में चौसठ प्रकार के तिलक बताए गए हैं।

हिंदू धर्म में महिलाएं लाल कुमकुम का तिलक लगाती हैं। लाल रंग ऊर्जा और उत्साह का प्रतीक है। तिलक के सौन्दर्य में अभिव्यक्ति है। यह मूर्ति भी तिलक देवी की मूर्ति से जुड़ी है। देवी की पूजा के बाद मनोहर को तिलक लगाया जाता है।

तिलक को देवी के आशीर्वाद का प्रतीक माना जाता है।

तिलक के प्रकार

सनातन धर्म में शैव, शाक्त, वैष्णव और अन्य संप्रदायों में अलग-अलग तिलक लगाए जाते हैं।

1- शैव– शैव परंपरा में माथे पर चंदन की आदि रेखा या त्रिपुंड का प्रयोग किया जाता है।

2- शाक्त– शाक्त तिलक सिन्दूर से बना होता है। सिन्दूर उग्रता का प्रतीक है। यह साधक की शक्ति या तीव्रता को बढ़ाने में सहायक माना जाता है।

3- वैष्णव– वैष्णव परंपरा में चौसठ प्रकार के तिलक बताए गए हैं। इनमें प्रमुख है लाल श्री तिलक- इसमें चंदन के चारों ओर और बीच में कुमकुम या हल्दी की खड़ी रेखा होती है।

4- विष्णुस्वामी तिलक– यह तिलक प्लास्टर पर पत्थर की दो ऊंची संरचनाओं से बना होता है। यह तिलक भौहों के बीच तक पहुंचता है।

5- रामानंद तिलक – रामानंदी तिलक विष्णुस्वामी तिलक के मध्य में कुमकुम से एक खड़ी रेखा से बनता है।

6- श्यामश्री तिलक– कृष्ण उपासकों के लिए यह एक वैष्णव विकल्प है। इसके चारों ओर गोपीचंदन की रेखा है तथा समुद्रतट पर काले मोतियों की माला है।

7- अन्य तिलक– गाणपत्य, शोक, कापालिक आदि के अलग-अलग तिलक होते हैं। साधु-संत भस्म का तिलक लगाते हैं।

इस प्रकार का तिलक या तिलक एक साथ एक धार्मिक प्रक्रिया, दर्शन, विज्ञान और दर्शन है।

तिलक के महत्व

  1. कुमकुम तिलक: यह सबसे आम और प्रसिद्ध तिलक है। कुमकुम रंग की एक छोटी सी धारा है और इसे आज्ञा चक्र (भौं) पर लगाया जाता है। यह तिलक स्त्री और पुरुष दोनों लगाते हैं।
  2. चंदन का तिलक: यह तिलक चंदन पाउडर के रूप में होता है और आज्ञा चक्र पर लगाया जाता है। चंदन का तिलक शांति, ताजगी और मन की शुद्धि में मदद करता है।
  3. भस्म तिलक: भस्म या विभूति तिलक शिव भक्तों द्वारा लगाया जाता है। यह तिलक महादेव की पूजा और भक्ति के लिए उपयोगी है।
  4. हल्दी का तिलक: भगवान लक्ष्मी और गणेश की पूजा में हल्दी का तिलक लगाया जाता है। यह तिलक सौभाग्य, धन और धन की प्रार्थना के लिए उपयोगी है।
  5. केसर का तिलक: श्री रामचन्द्र जी की पूजा में केसर का तिलक उपयोगी होता है। यह तिलक धार्मिकता, आध्यात्मिक अभ्यास और आध्यात्मिक शुद्धता का प्रतिनिधित्व करता है।
  6. इत्र का तिलक: इत्र का तिलक पूजा और भक्ति के लिए उपयोगी होता है। यह तिलक सकारात्मक ऊर्जा और मन की शांति को प्रोत्साहित करता है।
  7. तुलसी का तिलक: तुलसी की मिट्टी से बना तिलक आत्मा की शक्ति को बढ़ाता है और पूजनीयता की भावना को व्यक्त करता है।

माथे पर तिलक लगाने के बाद चावल क्यों लगाते हैं?

चावल को अक्षत भी कहा जाता है और इसका मतलब है कि यह कभी नष्ट नहीं होता है इसलिए किसी भी कार्य में सफलता के लिए चावल का उपयोग किया जाता है। सूजी रेशम के बाद चावल का प्रयोग किया जाता है। साथ ही हिंदू धर्म में चावल को आदर्शता का प्रतीक माना जाता है।

शास्त्रों के अनुसार चावल को हविष्य यानी घरों में देवताओं को अर्पित किया जाने वाला शुद्ध भोजन माना जाता है। ऐसे में तिलक में कच्चे चावल का प्रयोग करने से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। इससे हमारे आसपास की नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है।

Tilak Lagane Ka Mantra

FAQ

1. तिलक क्या है?

तिलक माथे पर लगाई जाने वाली एक धार्मिक निशानी है, जिसे अक्सर चंदन, सिंदूर, या हल्दी से बनाया जाता है। यह हिंदू धर्म में आध्यात्मिकता और भक्ति का प्रतीक माना जाता है।

2. तिलक लगाने का क्या महत्व है?

तिलक लगाने के कई धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व हैं। धार्मिक रूप से, यह माना जाता है कि तिलक भगवान विष्णु का तीसरा नेत्र दर्शाता है और बुरी आत्माओं से रक्षा करता है। वैज्ञानिक रूप से, चंदन, सिंदूर, और हल्दी में औषधीय गुण होते हैं जो एकाग्रता और स्मरण शक्ति बढ़ाने में मदद करते हैं।

3. तिलक कितने प्रकार के होते हैं?

तिलक विभिन्न आकारों, रंगों और प्रतीकों में बनाए जाते हैं। कुछ सामान्य प्रकार के तिलक में शामिल हैं:

  • उर्ध्व पुंड्र: यह वैष्णवों द्वारा पहना जाने वाला एक U-आकार का तिलक है, जो भगवान विष्णु का प्रतीक है।
  • त्रिपुंड्र: यह शैवों द्वारा पहना जाने वाला तीन क्षैतिज रेखाओं वाला तिलक है, जो भगवान शिव का प्रतीक है।
  • आड़ी रेखा: यह माँ दुर्गा का प्रतीक है और इसे अक्सर लाल सिंदूर से बनाया जाता है।
  • चंदन का टीका: यह एक सरल तिलक है जो किसी भी धर्म के लोग लगा सकते हैं।

4. तिलक लगाने का सही तरीका क्या है?

तिलक लगाने का कोई एक “सही” तरीका नहीं है। यह आपकी व्यक्तिगत श्रद्धा और परंपरा पर निर्भर करता है।

यहां एक सामान्य तरीका बताया गया है:

  1. अपने अंगूठे या मध्यमा उंगली से थोड़ा सा चंदन, सिंदूर, या हल्दी लें।
  2. अपने माथे के बीच में एक छोटा सा बिंदु बनाएं।
  3. इच्छानुसार, आप दो अतिरिक्त बिंदु बना सकते हैं, एक अपने दाहिने कान के ऊपर और दूसरा अपने बाएं कान के ऊपर।
  4. तिलक लगाते समय, “ॐ” मंत्र का जाप करें।

5. तिलक लगाने के लिए सबसे अच्छा समय कौन सा है?

तिलक लगाने का कोई निर्धारित समय नहीं है। आप इसे सुबह स्नान के बाद, पूजा के दौरान, या किसी भी धार्मिक कार्यक्रम में लगा सकते हैं।

6. क्या महिलाएं तिलक लगा सकती हैं?

हाँ, निश्चित रूप से! महिलाएं भी तिलक लगा सकती हैं। तिलक लगाने में कोई लैंगिक भेदभाव नहीं है।

7. तिलक लगाने के लिए क्या पहनना चाहिए?

तिलक लगाते समय आपको कोई विशेष पोशाक पहनने की आवश्यकता नहीं है। आप जो भी पहन रहे हैं, उसमें आप तिलक लगा सकते हैं।

8. क्या मैं रोज़ तिलक लगा सकता हूँ?

हाँ, आप रोज़ तिलक लगा सकते हैं। यह आपकी आस्था और भक्ति का प्रदर्शन है।

9. क्या मैं तिलक लगाकर मांसाहारी भोजन खा सकता हूँ?

यह आपकी व्यक्तिगत मान्यताओं पर निर्भर करता है। कुछ लोग मानते हैं कि तिलक लगाने वाले को शाकाहारी भोजन खाना चाहिए, जबकि अन्य का मानना ​​है कि यह कोई मायने नहीं रखता।

10. क्या मैं तिलक लगाकर शराब पी सकता हूँ?

यह भी आपकी व्यक्तिगत मान्यताओं पर निर्भर करता है। कुछ लोग मानते हैं कि तिलक लगाने वाले को शराब नहीं पीनी चाहिए, जबकि अन्य का मानना ​​है कि यह कोई मायने नहीं रखता।

11. तिलक लगाने से क्या फायदे होते हैं?

तिलक लगाने के धार्मिक और स्वास्थ्य लाभ:

धार्मिक लाभ:

  • ईश्वर की कृपा प्राप्ति: तिलक को भगवान का तीसरा नेत्र माना जाता है, इसलिए माना जाता है कि तिलक लगाने से भगवान की कृपा प्राप्त होती है।
  • पापों से मुक्ति: धार्मिक ग्रंथों में कहा गया है कि तिलक लगाने से पाप धुल जाते हैं और मन शुद्ध होता है।
  • नकारात्मक शक्तियों से रक्षा: तिलक को नकारात्मक शक्तियों से रक्षा का प्रतीक माना जाता है।
  • ध्यान और एकाग्रता: तिलक माथे के उस स्थान पर लगाया जाता है जो एकाग्रता के लिए महत्वपूर्ण होता है।
  • आध्यात्मिक उन्नति: तिलक आध्यात्मिक उन्नति का प्रतीक है और माना जाता है कि यह आध्यात्मिक चेतना को बढ़ाता है।

स्वास्थ्य लाभ:

  • मानसिक शांति: चंदन की ठंडक मस्तिष्क को शांत करती है और तनाव कम करती है।
  • स्मरण शक्ति: चंदन में स्मरण शक्ति बढ़ाने वाले गुण होते हैं।
  • एकाग्रता: तिलक लगाने से एकाग्रता और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता में वृद्धि होती है।
  • आँखों की रौशनी: सिंदूर में मौजूद पारा आँखों के लिए फायदेमंद होता है।
  • त्वचा स्वास्थ्य: हल्दी में एंटीसेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो त्वचा के लिए लाभदायक होते हैं।

12. यात्रा के दौरान तिलक लगाना शुभ होता है?

जी हाँ, यात्रा के दौरान यात्रा के सफल और सुरक्षित होने के लिए माथे पर तिलक लगाना शुभ माना जाता है। आप यात्रा के देवता भगवान शिव का प्रतीक – त्रिपुंड्र लगा सकते हैं।

13. क्या टूटे हुए चंदन या सिंदूर का तिलक लगाना ठीक है?

नहीं, टूटे हुए चंदन या सिंदूर का तिलक लगाना अशुभ माना जाता है। हमेशा ताजा चंदन या सिंदूर का इस्तेमाल करें।

14. तिलक लगाते समय गलती से छुआँ लेने पर क्या करें?

कोई बात नहीं गलती से तिलक को छू लेने पर आप अपने हाथों को धो लें और फिर से एक छोटा सा तिलक लगा लें।

15. क्या मैं किसी और को तिलक लगा सकता/सकती हूँ?

जी हाँ , आप किसी और को सम्मान और श्रद्धा के साथ तिलक लगा सकते हैं, खासकर किसी पूजा या धार्मिक कार्यक्रम के दौरान।

16. तिलक लगाने के लिए कौन सा रंग सबसे शुभ होता है?

सामान्य तौर पर, चंदन का सफेद या पीला रंग शुभ माना जाता है। लेकिन आप अपनी आस्था के अनुसार चंदन के साथ हल्दी का पीला या कुमकुम का लाल रंग भी मिला सकते हैं।

17. क्या मैं सिर्फ चंदन का टीका लगा सकता/सकती हूँ?

बिल्कुल, सिर्फ चंदन का टीका लगाना एक सरल और शुभ तरीका है। यह सभी उम्र और धर्म के लोगों के लिए उपयुक्त है।

18. क्या मैं तिलक मिटा सकता/सकती हूँ?

जी हाँ, आप चाहें तो तिलक को मिटा सकते हैं। इसे साफ पानी से धीरे से धो लें।

19. क्या तिलक लगाना अनिवार्य है?

नहीं, तिलक लगाना अनिवार्य नहीं है। यह आपकी आस्था और श्रद्धा का विषय है।

20. तिलक के पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क है क्या?

हाँ, माना जाता है कि चंदन, सिंदूर और हल्दी जैसे पदार्थों में औषधीय गुण होते हैं। चंदन दिमाग को शांत रखता है, सिंदूर में पारा होता है जो त्वचा के लिए लाभदायक माना जाता है, और हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं।

ध्यान रखें:

  • उपरोक्त लाभों के लिए वैज्ञानिक प्रमाणों की कमी है।
  • तिलक लगाने का मुख्य उद्देश्य धार्मिक और आध्यात्मिक होता है, स्वास्थ्य लाभ गौण हैं।

यह भी महत्वपूर्ण है कि तिलक लगाते समय स्वच्छता का ध्यान रखें और ताज़े तथा शुद्ध सामग्री का उपयोग करें।