भोग लगाने का मंत्र | Bhog Lagane Ka Mantra | भगवान को भोग लगाने का मंत्र

ऐसा माना जाता है कि घर में कोई भी खाद्य पदार्थ बनाकर भगवान के सामने रखने से भोजन की अशुद्धियां दूर हो जाती हैं।

भगवान को अर्पित किया जाने वाला कोई भी पदार्थ या अन्न, जल, मेवा, मिष्ठान नैवेद्य कहलाता है

वैदिक हिन्दू धर्म में अधिकांश भक्त यही गलती करते हैं कि भगवान को नैवेद्य अर्पित करने के स्थान पर प्रसाद या भोग शब्द का उच्चारण करते हैं।

सबसे पहले आपको भोग-प्रसाद और नैवेद्य में अंतर समझना चाहिए। भारत में यह बहुत बड़ी भ्रांति है कि भगवान को भोग या प्रसाद चढ़ाना है।

ये शब्द बहुत गलत है. वैदिक परंपरा में भगवान को नैवेद्य अर्पित करने की बात कही गई है। कोई चढ़ावा या प्रसाद नहीं.

नैवेद्य को हमेशा पान के पत्ते पर लगाना चाहिए। चढ़ाने के बाद इसे प्रसाद कहा जाता है और जब सभी को बांट दिया जाता है तो यह भोग बन जाता है। 

स्कंदपुराण के अनुसार- बिना मंत्र पढ़े भगवान को चढ़ाया गया नैवेद्य घर में दरिद्रता और तनाव लाता है।

इसलिए इस लेख में भगवान को भोग लगाने का मंत्र दिए गया है, जिसके उच्चारण कर के आप भगवन को  नैवेद्य अर्पित कर सकते है। 

Table of Contents

भोग लगाने का मंत्र | Bhog Lagane Ka Mantra


त्वदीयं वस्तु गोविन्द तुभ्यमेव समर्पये ।
गृहाण सम्मुखो भूत्वा प्रसीद परमेश्वर ।


सभी देवी देवताओ को भोग | Bhagwan Ko Bhog Lagane Ka Mantra

शर्कराखण्ड खाद्यानि दधिक्षीरघृतानि च
आहारं भक्ष्यभोज्यं च नैवेद्य प्रतिगृह्यताम्।।


हनुमान जी को भोग लगाने का मंत्र | Hanuman Ji Ko Bhog Lagane Ka Mantra

ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्

हनुमान जी को चढ़ाने के लिए कोई विशेष मंत्र नहीं है, लेकिन आप उन्हें श्रद्धापूर्वक कोई भी मिठाई, फल, पान आदि चढ़ा सकते हैं। समय के अनुसार आप हनुमान चालीसा या हनुमान जी के अन्य स्तोत्र का पाठ भी कर सकते हैं। इसके लिए हमें उनका आशीर्वाद मिलता है.

भोग प्रसाद और नैवेद्य में अंतर


  • वैसे भगवान के लिए ‘भोग’ कहना सही शब्द नहीं है. रुद्र संहिता और व्रतराज ग्रंथों के अनुसार भगवान को नैवेद्य अर्पित किया जाता है।
  • नैवेद्य अर्पित करने के बाद जो प्रसाद के रूप में सभी को वितरित किया जाता है और बाद में लोग या भक्त इसे स्वीकार करते हैं और खाते हैं उसे भोग कहा जाता है।

॥ नैवेद्यार्पण विधि॥


  • नैवेद सामग्री को मूर्ति के सामने रखें और अंजुलि में जल लेकर चारों ओर से घेर लें क्योंकि इस पर भी राक्षसों की बुरी नजर होती है। धेनुमुद्रा और योनि मुद्रा करें, फिर तुलसीदल, पुष्पादि छोड़ दें और घंटी वादन करे। बीच-बीच में जल भी अर्पित करें और अंत में जल हाथ में लेकर प्रसाद के चारो तरफ घुमाकर ॐ ब्रह्मअणु स्वाहा बोलते हुए प्रथ्वी पर छोड़ना चाहिए। ताकि वायु द्वारा नैवेद्य की खुशबू जीव-जगत के सुक्ष कीटाणुओं को भी मिल सके।
  • अन्यथा हमारा नैवेद्य दुष्ट-दूषित, छल-कपटी आत्माएं ग्रहण कर हमारे सदैव परेशान करती हैं। इस प्रकार से नैवेद्य अर्पित करने से घर में धन-धान्य की कमी नहीं होती।

ईश्वर को नैवेद्य अर्पण मंत्र 


नीचे लिखे नैवेद्य मंत्र को बोलते हुए एक-एक निवाला अर्पित करते जाएं

ऊँ प्राणाय स्वाहा 

ऊँ अपानाय स्वाहा 

ऊँ व्यानाय स्वाहा 

ऊँ उदानाय स्वाहा 

ऊँ समानाय स्वाहा

ये नैवेद्यार्पण की संक्षिप्त विधि है। तन्त्रग्रन्थों में और भी विस्तृत विधि वर्णित है।

  • सुख-समृद्धि बढ़ती है। एक बार 54 दिन नियमित रूप से ऐसा करके देखें। जीवन में चमत्कार होने लगेगा।
  • अंत में हाथ में जल लेकर प्रसाद के चारों ओर घुमाएं और ॐ ब्रह्मअणु स्वाहा बोलते हुए  इसे पृथ्वी पर छोड़ दें। ताकि नैवेद्य की सुगंध वायु के माध्यम से जीव जगत के सूक्ष्म कीटाणुओं तक भी पहुंच सके।
  • अन्यथा हमारा प्रसाद दुष्ट, भ्रष्ट, धोखेबाज आत्माओं द्वारा स्वीकार किया जाता है और वे हमें हमेशा परेशान करते हैं। इस प्रकार नैवेद्य अर्पित करने से घर में धन-धान्य की कमी नहीं होती।
  • इससे सुख-समृद्धि बढ़ती है। ऐसा एक बार नियमित रूप से 54 दिनों तक करने का प्रयास करें। जीवन में चमत्कार होने लगेंगे।

भगवान को भोग कैसे लगाए या नैवेद्य अर्पित करे 


  1. नैवेद्य हमेशा पात्र के नीचे पान के पत्ते पर रखकर ही अर्पित करना चाहिए। नैवेद्य चढ़ाते समय निम्नलिखित 5 मंत्रों का जाप अवश्य करना चाहिए, अन्यथा देवी-देवता इसे स्वीकार नहीं करते हैं –
  2. आयुर्वेद ग्रंथों के अनुसार पान के पत्ते की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान अमृत की बूंदों से हुई थी।
  3. देवी-देवताओं को पान का पत्ता अत्यंत प्रिय है, इसीलिए पान के पत्ते पर रखकर भगवान को नैवेद्य अर्पित करने की प्राचीन परंपरा है।
  4. स्कंदपुराण के नैवेद्य प्रकरण के श्लोक के अनुसार बिना पान के भोग लगाने से रोग उत्पन्न होता है और व्यक्ति दरिद्र, भाग्यहीन और दरिद्र हो जाता है। अनेक समस्याएँ उत्पन्न करता है।
  5. पान के पत्ते पर रखा हुआ नैवेद्य देवी-देवताओं को अत्यंत प्रिय है, इसीलिए पान के पत्ते पर रखकर भगवान को नैवेद्य अर्पित करने की प्राचीन परंपरा है।

भोग लगाने का मंत्र चुनते समय ध्यान रखने योग्य बातें


  • अपनी श्रद्धा: अपनी श्रद्धा और विश्वास के अनुसार मंत्र चुनें।
  • देवी-देवता: जिस देवी-देवता को भोग लगा रहे हैं, उसके अनुसार मंत्र चुनें।
  • मंत्र का अर्थ: मंत्र का अर्थ समझने का प्रयास करें।
  • मंत्र का उच्चारण: मंत्र का उच्चारण स्पष्ट और शुद्ध रूप से करें।

भोग लगाने का मंत्र केवल शब्दों का समूह नहीं है, बल्कि यह भक्ति और आभार व्यक्त करने का एक शक्तिशाली माध्यम है। जब आप भोग लगाने का मंत्र भक्ति भाव से पढ़ते हैं, तो यह देवी-देवताओं तक पहुंचता है और आपको उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

यह भी ध्यान रखें


  • भोग लगाने से पहले देवी-देवताओं को स्नान कराना और उन्हें नए वस्त्र पहनाना अच्छा होता है।
  • भोग लगाने से पहले घर में पूजा-पाठ करना और भजन गाना अच्छा होता है।
  • भोग लगाने के बाद प्रसाद को परिवार और दोस्तों के साथ बांटना अच्छा होता है।

भोग लगाने का मंत्र आपके जीवन में आध्यात्मिकता, शांति और समृद्धि ला सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि भोग लगाना केवल एक रस्म नहीं है, बल्कि यह भक्ति और आभार व्यक्त करने का एक तरीका है। भोग लगाते समय मन में भक्ति भाव होना चाहिए और तभी आपको इसका पूर्ण लाभ प्राप्त होगा।


FAQ

1. भोग लगाना क्या है?

भोग लगाना हिंदू धर्म में देवी-देवताओं को भोजन अर्पित करने की प्रथा है। यह भक्ति और आभार व्यक्त करने का एक तरीका है।

2. भोग लगाने का महत्व क्या है?

भोग लगाने से देवी-देवताओं को प्रसन्नता प्राप्त होती है और वे भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं। यह भक्तों में आध्यात्मिकता और सकारात्मकता भी बढ़ाता है।

3. भोग लगाने के लिए क्या आवश्यक है?

भोग लगाने के लिए आपको स्वादिष्ट और पौष्टिक भोजन तैयार करना होगा। आप फल, मिठाई, नमकीन, या अपनी पसंद के अनुसार कोई भी भोजन तैयार कर सकते हैं।

4. भोग लगाने का मंत्र क्या है?

भोग लगाने के लिए कोई एक निश्चित मंत्र नहीं है। आप अपनी पसंद का कोई भी मंत्र पढ़ सकते हैं या भक्ति भाव से देवी-देवताओं का ध्यान कर सकते हैं।

5. भोग लगाने की प्रक्रिया क्या है?

▪ स्नान करके स्वच्छ वस्त्र पहनें।
▪ पूजा स्थल को साफ करें और सजाएं।
▪ देवी-देवताओं की प्रतिमा या तस्वीर के सामने भोजन रखें।
▪ दीप जलाएं और धूप करें।
▪ भोग लगाने का मंत्र पढ़ें या ध्यान करें।
▪ भोग को प्रसाद के रूप में ग्रहण करें।

6. भोग लगाने का समय क्या है?

भोग लगाने का कोई निश्चित समय नहीं है। आप सुबह, दोपहर, शाम या रात में कभी भी भोग लगा सकते हैं।

7. भोग लगाने के नियम क्या हैं?

▪ भोजन ताजा और स्वादिष्ट होना चाहिए।
▪ भोजन में मांस, मदिरा, और लहसुन-प्याज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
▪ भोजन को साफ-सुथरे बर्तनों में रखना चाहिए।
भोग लगाते समय मन में भक्ति भाव होना चाहिए।

8. भोग लगाने के लाभ क्या हैं?

▪ भोग लगाने से देवी-देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
▪ भोग लगाने से मन में शांति और सकारात्मकता आती है।
▪ भोग लगाने से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।
▪ भोग लगाने से आध्यात्मिक उन्नति होती है।

9. भोग लगाने के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें:

▪ भोग लगाने से पहले देवी-देवताओं को स्नान कराना और उन्हें नए वस्त्र पहनाना अच्छा होता है।
▪ भोग लगाने से पहले घर में पूजा-पाठ करना और भजन गाना अच्छा होता है।
▪ भोग लगाने के बाद प्रसाद को परिवार और दोस्तों के साथ बांटना अच्छा होता है।

10. भोग लगाने के बारे में अधिक जानकारी कहां से प्राप्त करें?

आप भोग लगाने के बारे में अधिक जानकारी किसी गुरु, पुजारी, या धार्मिक पुस्तकों से प्राप्त कर सकते हैं।

11. क्या मैं घर का बना भोग लगा सकता हूँ?

बिल्कुल! प्रेम और भक्ति से बनाया गया घर का बना भोग कई लोगों द्वारा और भी खास माना जाता है। यह परमात्मा को अर्पण करने में आपके व्यक्तिगत प्रयास और ईमानदारी का प्रतीक है।

12. यदि मैं विस्तृत भोजन नहीं बना सकता तो क्या होगा?

कोई बात नहीं! आप फलों या एक मिठाई का भी भोग लगा सकते है। ध्यान भाव या भावना पर है, जिसका अर्थ है भेंट के पीछे आपकी भक्ति और भावना।

13. क्या विशिष्ट दिनों के लिए कोई मंत्र हैं?

हां, सप्ताह के विशिष्ट दिनों से जुड़े मंत्र हैं। उदाहरण के लिए, मंगलवार को, जो हनुमान जी का दिन माना जाता है, आप भोग लगाते समय “ॐ श्री हनुमते नमः” का जाप कर सकते हैं। अन्वेषण करें और देखें कि क्या ऐसे दिनों के लिए कोई मंत्र हैं जो आपके लिए विशेष महत्व रखते हैं।

14. क्या मैं मंत्र जाप के स्थान पर भजन गा सकता हूँ?

बिल्कुल! भजन ईश्वर के प्रति प्रेम और भक्ति को व्यक्त करने वाले भक्ति गीत हैं। भोग लगाते समय भजन गाने से एक सुंदर और उत्साहवर्धक वातावरण बनता है। अधिक केंद्रित अभ्यास के लिए आप जिस देवता को अर्पित कर रहे हैं, उसे समर्पित भजन चुनें।

15. मैं भोग लगाने को नियमित अभ्यास कैसे बना सकता हूँ?

छोटी से शुरू करें: सप्ताह में एक बार या यदि यह प्रबंधनीय लगे तो प्रतिदिन भी भोग लगाने से शुरुआत करें। संगति प्रमुख है.
ऐसा समय ढूंढें जो आपके लिए सही हो: चाहे सुबह हो या शाम, ऐसा समय चुनें जो आपकी दिनचर्या के साथ अच्छी तरह मेल खाता हो।
एक छोटा अनुष्ठान बनाएं: दीपक जलाएं, फूल चढ़ाएं और एक मंत्र का जाप करें या भजन गाएं। इससे पवित्रता का भाव उत्पन्न होता है।
एक निश्चित स्थान बनाए: घर में एक छोटा सा पूजा स्थान होने से आप अधिक आसानी से ध्यान केंद्रित कर सकते हैं और ईश्वर से जुड़ सकते हैं।
याद रखें, भोग प्रसाद कृतज्ञता व्यक्त करने और परमात्मा से जुड़ने का एक तरीका है। वही करें जो आपको सही लगे और अपनी भक्ति को आपका मार्गदर्शन करने दें।